Om Prakash Dewangan (+91 81039 11234)

Om Prakash Dewangan (+91 81039 11234)

नई दिल्ली। बालाकोट एयर स्ट्राइक को आज एक साल पूरा हो गया है। भारत पुलवामा हमले में शहीद हुए जवानों की शहादत का बदला 26 फरवरी 2019 के दिन बालाकोट में एयर स्ट्राइक कर लिया गया था। भारतीय सेना ने एयर स्ट्राइक कर आतंकी ठिकानों को ध्वस्त कर दिया था। इस स्ट्राइक में कई आतंकी मारे गए थे। इसपर पूर्व वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ ने कहा कि एक साल बीत चुका है और हम संतुष्टि के साथ पीछे मुड़कर देखते है। हमने बहुत कुछ सीखा है, बालाकोट के संचालन के बाद बहुत सारी चीजें लागू की गई हैं। उन्होंने आगे कहा कि हम संदेश देना चाहते थे कि हम 'घुसकर मारेंगे' चाहे आप कहीं भी हो।

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज 26 फरवरी को पूर्वान्ह 11:00 बजे राजधानी रायपुर के साइंस कॉलेज परिसर स्थित पंडित दीनदयाल उपाध्याय प्रेक्षागृह में पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय के 25 वें दीक्षांत समारोह में शामिल होंगे। उसके बाद मुख्यमंत्री बघेल दोपहर 1:00 बजे विधानसभा पहुंचेंगे और विधानसभा के सत्र में शामिल होंगे।

दिल्ली। राजधानी दिल्ली कुछ सिरफिरों की सनक का शिकार हो गई। अब तक पूर्वी दिल्ली में हालात बेकाबू हैं और ग्यारह लोग जान से हाथ धो बैठे हैं। ऐसे में असदुद्दीन ओवैसी ने बड़ा बयान दिया है।राजधानी दिल्ली के उत्तर-पूर्वी इलाके में भड़की हिंसा काबू मेें नहींं आ रही है। राजनीतिक दलोंं ने एकजुट होकर इस घटना की निंदा की है। इसी कड़ी में ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने भी ट्वीट किया है। उन्होंने हिंसा प्रभावित इलाकों को सेना के हवाले करने की मांग की है। इसके अलावा ओवैसी ने आरोप लगाते हुए कहा कि दिल्ली पुलिस हिंसा करने वालों के साथ मिली हुई है।

रायपुर, मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की उपस्थिति में कल साईंस कॉलेज मैदान में नव दम्पत्तियों ने सात वचनों के साथ कुपोषण और कन्या भ्रूण हत्या रोकने की शपथ ली। मुख्यमंत्री ने सामूहिक कन्या विवाह समारोह में सभी नवदम्पत्तियों को आशीर्वाद दिया। इस अवसर पर 518 कन्याओं का विवाह सम्पन्न हुआ। मुस्लिम और इसाई धर्म के तीन-तीन जोड़ों का भी मौलवी और पादरी ने अपने-अपने रीति-रिवाज से विवाह सम्पन्न कराया। इन जोड़ों के साथ चार दिव्यांग जोड़ों ने भी सामूहिक विवाह में सात फेरे लेकर जीवन भर साथ रहने का वचन दिया। नव दम्पत्तियों ने सात फेरों और सात वचनों के साथ ही भू्रण हत्या का विरोध, बेटी के प्रति भेद-भाव नहीं करने, बेटी का स्वाभिमान एवं गौरव बनाए रखने की भी शपथ ली। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने नवविवाहितों को बधाई और शुभकामनाएं दी और उनके सुखमय जीवन की कामना की। मुख्यमंत्री ने अपने उद्बोधन में कहा कि सामूहिक विवाह एक पुनीत कार्य है। हर माता-पिता को अपने बच्चों की शादी की चिंता होती है। आज के समय में शादी में लाखों रूपए खर्च हो जाते हैं। माता-पिता को शादी के लिए उपयुक्त वर-वधु मिलने के साथ ही शादी के खर्च की चिंता रहती है। सामूहिक विवाह योजना के माध्यम से कम खर्चे में शादी की सामग्री, पण्डाल, भोजन के साथ ही विधिवत तरीके से विवाह संस्कार सम्पन्न हो जाता है। इस अवसर पर महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अनिला भेंड़िया, राज्यसभा सांसद श्रीमती छाया वर्मा, विधायकगण, महापौर ने भी नव दम्पत्तियों को बधाई और शुभकामनाएं दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ में कभी भी दहेज प्रथा नहीं रही है। आशीर्वाद स्वरूप टिकावन के रूप में वधु के नये दाम्पत्य जीवन की शुरूआत के लिए जरूरी सामग्री दी जाती है। मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना के तहत राज्य सरकार द्वारा 15 हजार रूपए को बढ़ाकर 25 हजार रूपए कर दिया गया है। इस राशि से 20 हजार की उपहार सामग्री तथा पांच हजार रूपए विवाह आयोजन व्यवस्था पर खर्च की जाती है। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर सभी जोड़ों को एक-एक पौधा, सुपोषण टोकरी, एक हजार रूपए का चेक सहित अनिवार्य विवाह पंजीयन प्रमाण पत्र और दैनिक जीवन के उपयोगी की सामग्री भी प्रदान किया। उन्होंने छत्तीसगढ़ी हाना ‘घर बना के देख, बिहाव करके देख’ कहते हुए विवाह को एक जिम्मेदारी बताया। मुख्यमंत्री ने सामूहिक विवाह को लेकर नजरिया और भाव बदलने की जरूरत पर बल देते हुए कहा कि ‘सोच बदलो सितारे बदल जाते हैं, नजरे बदलो नजारे बदल जाते हैं’। मुख्यमंत्री ने सामाजिक बुराईयों के खिलाफ जन चेतना लाने तथा पूरी रस्मों-रिवाज एवं वैदिक मंत्रों के साथ शादी सम्पन्न कराने पर गायत्री परिवार को बधाई और शुभकामनाएं दी।

रायपुर,  रायपुर के साईंस कॉलेज मैदान में हुए मुख्यमंत्री कन्या विवाह समारोह में आज वर-वधुओं की मुख्यमंत्री संग सेल्फी लेने की होड़ लगी रही। हर कोई विवाह के पल को मुख्यमंत्री के साथ कैद कर यादगार बनाना चाहता था। मुख्यमंत्री ने भी नव दंपत्तियों को निराश नहीं किया और खुद सेल्फी ली। धरसींवा के लोकेश और धनेश्वरी ने मुख्यमंत्री संग सेल्फी लेने के लिए कैमरा आगे किया और मुख्यमंत्री ने भी खुशी से उनके साथ फोटो खिचवाई। रायपुर के मोवा निवासी पवन कुमार और शिवानी कुर्रे के विवाह में साथ आई श्रीमती साधना वर्मा ने खुद मुख्यमंत्री से सेल्फी लेने का निवेदन किया तो मुख्यमंत्री ने उन्हें निराश न करते हुए उनके फोन से खुद सेल्फी ली। इसी तरह कई जोड़ों ने मुख्यमंत्री के साथ सेल्फी लेकर अपने विवाह को यादगार बना लिया।

मेष: भावुकता में नियंत्रण रखें। अधीनस्थ कर्मचारी से तनाव मिलेगा। भागदौड़ भी रहेगी। पिता या धर्म गुरु से सहयोग मिल सकता है।

वृष: व्यावसायिक योजना फलीभूत होगी, लेकिन पड़ोसी या पारिवारिक सदस्य से तनाव मिल सकता है। शिक्षा प्रतियोगिता के क्षेत्र में किया जा रहा पुरुषार्थ सार्थक होगा।

मिथुन: व्यावसायिक योजना फलीभूत होगी। आर्थिक पक्ष मजबूत होगा। जीवनसाथी से सहयोग मिलेगा। संबंधों में मधुरता आएगी।

कर्क: महिला अधिकारी से सहयोग मिल सकता है, लेकिन शिक्षा प्रतियोगिता की सफलता के लिए आर्थिक परिश्रम करें।

सिंह: पारिवारिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी। आर्थिक पक्ष मजबूत होगा। भागदौड़ रहेगी। दांपत्य जीवन सुखमय होगा, लेकिन कुछ पारिवारिक तनाव भी मिल सकता है।

कन्या: मौसम के रोग से सचेत रहें। व्यावसायिक कार्य में व्यस्त रहेंगे। मांगलिक या सामाजिक कार्य में रुचि लेंगे। राजनीतिक मामलों में भी सफलता मिलेगी।

तुला: जीविका के क्षेत्र में प्रगति होगी। शासन सत्ता का सहयोग रहेगा। दांपत्य जीवन सुखमय होगा। रोजगार की दिशा में चल रहा प्रयास फलीभूत होगा।

वृश्चिक: कोई ऐसी घटना हो सकती है, जो आपके हित में न हो। स्वास्थ्य एवं प्रतिष्ठा के प्रति सचेत रहें। आर्थिक पक्ष मजबूत होगा।

धनु: संतान के दायित्व की पूर्ति होगी। शिक्षा प्रतियोगिता के क्षेत्र में सफलता मिलेगी। व्यावसायिक योजना फलीभूत होगी।

मकर: आर्थिक मामलों में प्रगति होगी। पारिवारिक स्थिति में सुधार होगा। उपहार या सम्मान में वृद्धि होगी। संबंधों में निकटता आएगी।

कुंभ: किसी कार्य के संपन्न होने से आपके प्रभाव में वृद्धि होगी। जीवनसाथी का सहयोग एवं सानिध्य मिलेगा।

मीन: पारिवारिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी। व्यावसायिक मामलों में सफलता मिलेगी। उपहार या सम्मान में वृद्धि होगी। संबंधों में निकटता आएगी

रायपुर,  उद्योग मंत्री श्री कवासी लखमा आज 26 फरवरी को नई दिल्ली में एमएसएमई (सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय) द्वारा आयोजित पुरस्कार समारोह में शामिल होंगे। यह पुरस्कार समारोह नई दिल्ली के चाणक्यपुरी स्थित सुषमा स्वराज भवन में आयोजित किया गया है।

रायपुर, धार्मिक और सांस्कृतिक विविधता के कई नजारे आज यहां राजधानी रायपुर के साइंस कालेज मैदान में सामूहिक विवाह के दौरान देखने को मिले। आर्थिक परिस्थितियों से जूझ रहे परिवारों के लिए यह राहत भरा मौका साबित हुआ। इस आयोजन में मुस्लिम और ईसाई धर्म के जोड़ों का विवाह अपने-अपने रस्मों और रिवाजों के साथ हुआ। मसीही समाज ने जहां विवाह संस्कार संपन्न कराया वहीं मुस्लिम समुदाय के जोड़ों ने ‘खुतबा‘ कबूल किया। सामूहिक विवाह समारोह में मौलवी श्री मुहम्मद हबीबुल्ला कादरी ने छुरा के सुश्री कौसल और श्री फिरोज, रायपुर के मोवा निवासी सुश्री रेशमा कुरैशी और श्री सद्दाम कुरौशी और पचेड़ा की सुश्री नजमा और श्री सादिक का निकाह संपन्न कराया। नव विवाहित वधुओं ने बताया कि उन्होंने 10 वीं तक पढ़ाई की है। श्री फिरोज और सद्दाम वाहन चालक हैं और श्री सादिक जेसीबी चलाते हैं। सभी कमजोर परिस्थिति में होने के कारण इतनी भव्य शादी नहीं कर सकते थे, जितनी आज सामूहिक विवाह समारोह में हुई है। श्री फिरोज की मां श्रीमती हमीदा अंसारी ने कहा कि आर्थिक रूप से कमजोर होने के कारण शादी के खर्च से हमारे उपर और अधिक भार आ जाता। सामूहिक विवाह में हमारे पूरे रस्मों ंरिवाज के साथ सरकार ने शादी कराई और उपहार भी दिये। यहां शादी करवाकर हम बहुत खुश हैं क्योंकि मुख्यमंत्री सहित मंत्री, विधायक और बहुत से लोग शादी में शामिल हुए हैं। इसाई समुदाय की सुश्री शोभा महानंद और श्री अनिमेष नाग का विवाह भी ईसाई रीति रिवाज से सामूहिक विवाह समारोह में संपन्न हुआ। सुश्री शोभा ने बताया कि वह कपड़ा दुकान में काम करती हैं। शादी का खर्च उठाने में परिजनों को कई तरह की दिक्कतोें ंका सामना करना पड़ता इसलिए उन्होंने यहां विवाह करने का निर्णय लिया। सामूहिक विवाह में दाम्पत्य जीवन में बंधे भनपुरी निवासी ज्योति सलामे और रूपेन्द्र बरिहा ने कहा कि आर्थिक रूप से कमजोर लोगों के लिए राज्य सरकार द्वारा चलायी गई यह योजना अत्यंत सराहनीय है। उन्होंने राज्य के मुखिया श्री भूपेश बघेल का हृदय से धन्यवाद किया। वहीं मठ खरोरा रायपुर से आये विरेन्द्र धीमा एवं संजूू ने योजना के तहत् सरकार द्वारा विवाह का व्यय वहन करने के साथ ही नया जीवन आरंभ करने के लिए उपलब्ध करायी जा रही आवश्यक गृहस्थ सामग्री के लिए भूपेश सरकार की सराहना की।

रायपुर,  छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा कोरबा जिले के हसदेव बांगो जलाशय में जल पर्यटन की असीम संभावना को देखते हुए जलाशय के सतरेंगा, बुका एवं गोल्डन आईलैण्ड को बेहतरीन जल पर्यटन के रूप में माईस टूरिज्म के माध्यम से विकसित करने का विशेष प्रयास किया जा रहा है। इस क्षेत्र में माईस टूरिज्म को बढ़ावा देने मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में मंत्रिपरिषद की बैठक 29 फरवरी को दोपहर एक बजे से कोरबा जिले के सतरेंगा में आयोजित की जा रही है।

छत्तीसगढ़ पर्यटन में माईस टूरिज्म (डप्ब्म् ज्वनतपेउ) अर्थात् मीटिंग्स, इंसेंटिव, कांफ्रेंस और एग्जिबिशन (डममजपदहेए प्दबमदजपअमेए ब्वदतिमदबम ।दक म्गीपइपजपवदेद्ध की अवधारणा पर पहली बार केबिनेट की बैठक हसदेव बांगो जलाशय के सतरेंगा में जल सौंदर्य के बीच आयोजित करने का उद्देश्य सतरेंगा को पर्यटन स्थल के रूप में पहचान दिलाना है। राज्य सरकार के इस प्रयास से यहां माईस टूरिज्म का प्रचलन छत्तीसगढ़ में बढ़ेगा, वहीं पर्यटकों के साथ-साथ राज्य के निजी उद्योग एवं व्यवसायिक क्षेत्र की निजी कंपनियां भी अपनी बैठक माईस टूरिज्म की अवधारणा पर यहां आयोजित कर सकेंगे। छत्तीसगढ़ के पर्यटन स्थल को राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाने के लिए यह महत्वपूर्ण प्रयास मील का पत्थर साबित होगा। राज्य सरकार के इस प्रयास से सतरेंगा क्षेत्र के स्थानीय निवासियों को रोजगार के नए अवसर प्राप्त हो रहे है। वर्तमान में पावर बोर्ड संचालन करने के लिए यहां के 11 स्थानीय निवासियों को भारतीय नौसेना की पंजीकृत एजेंसी भोपाल से प्रशिक्षण दिलाकर इनके रोजगार के लिए ग्राम पंचायत स्तर पर समिति बनाकर उनसे बोट का संचालन कार्य करवाया जा रहा है।

इसके अलावा कोरबा जिले के होटल मैंनेजमेंट के 10 छात्रों से छत्तीसगढ़ टूरिज्म बोर्ड द्वारा सतेरंगा में संचालित किए जाने वाले कार्टेजेस का प्रबंधन कराए जाने का निर्णय लिया गया है। सतरेंगा में जल पर्यटन को बढ़ावा देने से यहां के स्थानीय निवासियों को रोजगार के नए-नए अवसर प्राप्त हो रहे है। वहीं राज्य के लघु एवं कुटीर उद्योग को भी बढ़ावा मिलेगा।

रायपुर,  ग्रामीण महिलाएं जल्द ही उन्नत पशु नस्ल सुधार कार्यक्रम से जुडेंगी। कृषि मंत्री श्री रविन्द्र चौबे के मार्गदर्शन और कृषि उत्पादन आयुक्त श्रीमती मनिन्दर कौर द्विवेदी की पहल से कांकेर, राजनांदगांव, गरियाबंद जिले की महिला समूहों ने उन्नत पशु नस्ल सुधार प्रशिक्षण में शामिल होने की सहमति व्यक्त की। प्रदेश में नस्ल सुधार कार्यक्रम के तहत राज्य की महिलाओं को पहली बार बहुद्देशीय कृत्रिम गर्भाधान कार्यकर्ता (मैत्री) का प्रशिक्षण दिया जाएगा। उल्लेखनीय है कि महिलायें राजधानी रायपुर में आयोजित राष्ट्रीय कृषि मेला में बकरी पालन और मशरूम उत्पादन का प्रशिक्षण लेने आई थीं। कृषि उत्पादन आयुक्त श्रीमती मनिंदर कौर द्विवेदी से हुई चर्चा के दौरान इन महिलाओं ने पशुपालन और उन्नत नस्ल सुधार कार्यक्रम में दिलचस्पी दिखाई।

महिलाओं की रूचि को देखते हुए कृषि उत्पादक आयुक्त ने पशुपालन विभाग के अधिकारियों को आगामी अप्रैल माह में इन महिलाओं को प्रशिक्षण देने की व्यवस्था करने के निर्देश दिए है। चर्चा में महिलाओं ने बताया कि राष्ट्रीय कृषि मेले में आने से कृषि और पशुपालन के क्षेत्र में नई तकनीकों की जानकारी मिली। यहां उन्हें बकरी पालन और मशरूम उत्पादन का प्रशिक्षण विशेषज्ञों द्वारा दिया गया है। कृषि उत्पादन आयुक्त डॉ. मनिन्दर कौर द्विवेदी ने समूह की महिलाओं को पशु पालन विभाग द्वारा संचालित मैत्री प्रशिक्षण से जुडकर उन्नत पशु नस्ल सुधार के टीकाकरण कार्यक्रम, पशुओं का प्राथमिक उपचार, पशुधन बीमा सहित अन्य विभागीय योजनाओं का प्रचार-प्रसार करने को उत्साहित किया।

Page 1 of 43