सूरजपुर - बसदेई चौकी ने चोरी के तीन आरोपियों को किया गिरफ्तार दरअसल उंचडीह निवासी पार्वती पति दशरथ मरकाम ने चौकी बसदेेेई में रिपोर्ट दर्ज कराया कि ग्राम पंचायत उंचडीह के गौठान में लगे 1 एचपी का समरसिबल पम्प व उसमें लगा केबल को 23 मार्च को रात्रि में चोरी कर ले गया है I तथा प्राथमिक शाला बैगापारा उंचडीह में बाउण्ड्री वाल हेतु गिराए गए लोहे का जालीदार तार 05 बंडल के अलावा ग्राम पंचायत लोधिमा के प्लांटेशन में लगे समरसिबल पम्प व स्टाटर को भी चोरी कर लिया गया है। रिपोर्ट पर बसदेई पुलिस ने मामला पंजीबद्व कर जांच शुरू किया और गंभीरतापूर्वक जांच कर आरोपियों की पतासाजी कर गिरफ्तार कर आरोपियों को जेल भेज दिया I

शेयर करे...

सोमवार को कोरोना वायरस संबंधी जागरूकता एवं वायरस से बचाव के उपायों पर चर्चा और लाकडाउन से उत्पन्न समस्याओं की जानकारी लेते हुए ज़िला पंचायत उपाध्यक्ष नरेश राजवाड़े ने प्रेमनगर विधानसभा के परसुरामपुर के बंडा भैंसा केशवपुर में पंडोपारा कौशलपुर के भैंसा मुडा के पंडोपारा में निवासरत पंडो जन जाति के लोगों से उनकी रोजमर्रा के जीवन मे आने वाली समस्याओं से रूबरू होते हुए कहा कि सरकार आपके साथ है कोई भी भुखा ना रहे इसके लिये हर पंचायत में खाद्य सामाग्री की व्यवस्था की गई है कोरोना वायरस को फैलने से रोकने में हम सभी को सतर्क रहना होगा। भीड़ वाले स्थानों पर न जाएं, कोरोना वायरस से प्रभावित देशों की यात्रा न करें और वहां से आए लोगों के संपर्क में न रहें। बुखार, जुखाम, खांसी होने पर तुरंत डॉक्टर के पास जाएं। बार-बार हाथ धोएं, गर्म पानी पीएं, अपने हाथों से नाक, मुंह और आंखों को बार-बार न छुएं सफाई रखने और जानकारी से कोरोना वायरस को फैलने से रोका जा सकता है वहीं शासन ने जो निर्देश दिये है उसे भी फालो करना होगा I वहीं कोरोना वायरस के संक्रमण के रोकथाम और उपचार के लिये तीन माह का मानदेय मुख्यमंत्री राहत कोष में जमा करने ज़िला पंचायत सी ई ओ को पत्र भी लिखा I

शेयर करे...

रायपुर-देश की नवरत्न कंपनी एनएमडीसी ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी की अपील के मद्देनज़र पीएम केयर फंड में 150 करोड़ रूपए की राशि का अंशदान किया है। एनएमडीसी का कहना है कि इस अंशदान से बेहतर चिकित्सा और स्वास्थ्य सेवाओं के साथ देश को मौजूदा कोविड-19 संकट से उबारने में मदद मिलेगी।एनएमडीसी के इस निर्णय का स्वागत करते हुए देश के पेट्रोलियम और इस्पात मंत्री श्री धर्मेन्द्र प्रधान ने कहा कि देश के लिए मौजूदा समय जरूरत का समय है और इस जरूरत के समय कोई भी योगदान कम नहीं होता। उन्होंने कहा कि मौजूदा समय में हम सबको अनिवार्य रूप से साथ आकर जिस भी प्रकार से और जो भी सहायता कर सकतें हैं वो करना चाहिए। एनएमडीसी के अध्यक्ष सह प्रबंध-निदेशक श्री एन बैजेन्द्र कुमार का कहना है कि-“ कोविड-19 की वजह से  देश के लिए उत्पन्न इस मुश्किल घड़ी में एनएमडीसी ने 150 करोड़ रूपए की राशि का अंशदान पीएम केयर फंड में किया है। ये एमएमडीसी की तरफ से एक छोटा सा योगदान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी की अपील पर देशहित में दिया गया है। इससे पहले एनएमडीसी ने अपने एक निर्णय के तहत एनएमडीसी के सभी अधिकारियों-कर्मचारियों समेत सभी सलाहकार, अनुबंधित अधिकारी-कर्मचारी और श्रमिकों को मार्च महीने के वेतन के साथ एक हजार रूपए की अतिरिक्त राशि देने का निर्णय लिया है, जिसकी सहायता से एनएमडीसी से जुड़े लोग अपने व्यक्तिगत स्वच्छता को ध्यान रखते हुए कोविड-19 से बचाव के लिए जरूरी चीजों की खरीदी कर सके। एनएमडीसी ने अपने सभी कार्यालयों और प्रोजेक्ट स्थलों पर स्वच्छता और सेनिटाइजेशन के लिए विशेष इंतजाम किए हैं। एनएमडीसी द्वारा दंतेवाड़ा जिले के जनजातीय महिला समुहों द्वारा बनाए गए मास्क और सेनिटाइजर का एनएमडीसी के कार्मिकों और अन्य जरूरतमंदों के बीच वितरण का काम जारी है। एनएमडीसी के इस निर्णय से कोरोना के खिलाफ लड़ाई को और मजबूती मिलने के साथ  ही संकट की इस घड़ी में ग्रामीण महिलाओं की आय में भी इजाफा होगा।एनएमडीसी के अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक श्री एन बैजेन्द्र कुमार का कहना है कि कोरोना यानी कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में एनएमडीसी अपने सभी कार्मिकों के साथ देश के साथ कदम से कदम मिलाकर आगे बढ़ रहा है और इसी हौसले और जज्बे से भारत कोविड-19 पर विजय पाने में सफल होगा।

शेयर करे...

सूरजपुर - जिले के रामानुजनगर क्षेत्र में सोंमवार सुबह उस समय अफरा-तफरी मच गई जब जंगल से भटककर भालू भोजन और पानी की तलाश में रिहायशी क्षेत्र में घुस आया. लोगों को देख डरा भालू भागने लगा. इस बीच भालू ने एक महिला पर हमला भी कर दिया हमले से महिला घायल हो गई वहीं भागते हुए बस स्टैंड के पिछे पुराने पैलेश में घुस गया.रिहायसी क्षेत्र में भालू के घुसने की सूचना वन विभाग और पुलिस को दी गई. सूचना मिलते ही वन विभाग के अधिकारी और पुलिस मौके पर पहुंचे. आपको बता दें कि घायल महिला को उपचार के लिए अस्पताल लाया गया है जहां प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी कर दी गई तो फिलहाल भालू को रेस्क्यू कर पकड़ लिया गया है और जंगल में ले जाकर छोड़ दिया गया है घायल महिला अंजू पांडे को वन विभाग ने 1000 रु का सहयोग किया मामला प्रेमनगर वन परिक्षेत्र से जुड़ा है I

शेयर करे...

सूरजपुर ज़िले के कई गांवों ने कोरोना वायरस संकट के दौरान लॉकडाउन के लिए नायाब मिसाल पेश की है. यहां आने-जाने वाले रास्तों को लकड़ी की मोटी बल्लियों से बंद कर दिया गया है. न किसी को गांवों में आने दिया जा रहा है और न ही किसी को बाहर जाने दिया जा रहा है. गांव के ही युवक टोलियों में निगरानी कर रहे हैं I सूरजपुर ज़िला मुख्यालय से 15 किलोमीटर दूर स्थित सुन्दरपुर गांव में करीब 250 घर हैं. यहां अधिकतर श्रमिक रहते हैं. सुंदरपुर गांव के बाद रजबहर गांव में भी युवकों ने खुद ही बैरीकेडिंग लगा दिए हैं. इन युवकों का कहना है कि चाहे जैसे भी हालात हों गांव में ही रहेंगे. इन्होंने कोरोना वायरस महामारी पर जागरूकता के लिए संदेश लिख कर लगा रखे हैं I
सरपंच पति सहल सिंह सुंदरपुर का कहना है कि सुरक्षित रहने और कोरोना वायरस को मात देने का एक ही तरीका है कि लॉकडाउन का पालन किया जाए और एक दूसरे से दूरी बना कर रखी जाए I एडीशन टूडे की टीम ने वहां देखा कि इन गांवों के लोग कई शहरी लोगों से अधिक जागरूक हैं. शहरों में लॉकडाउन के उल्लंघन की कई रिपोर्ट आ रही हैं लेकिन इन गांवों के लोगों ने सामूहिक बैठक कर फैसला किया कि 21 दिन तमाम विपरीत स्थितियों के बावजूद वो लॉकडाउन का पालन करेंगे I

शेयर करे...

जगदलपुर। आंध्रप्रदेश के गुंटूर जिले से अपने घर राजस्थान जा रहे 17 मजदूरों को कल देर रात चेकिंग के दौरान बस्तर पुलिस ने पकड़ा है। ये सभी मजदूर गुंटूर जिले के अलग-अलग जगहों में मजदूरी का काम करते है। लॉकडाउन की स्थिति में वे बस्तर के रास्ते होते हुए राजस्थान जा रहे थे। और इसी दौरान पुलिस ने ओडिसा और छत्तीसगढ़ के सीमा से पैदल आ रहे इन सभी 17 मजदूरों से पूछताछ की मजदूरों ने पुलिस को बताया कि घर जाने की अनुमति नहीं मिलने के चलते वह चोरी छिपे अलग अलग ट्रकों में बैठकर बस्तर से रायपुर होते हुए राजस्थान जाने के फिराक में थे। फिलहाल पुलिस ने सभी 17 मजदूरों को अपने हिरासत में ले लिया है । और इनकी अपने निगरानी में मेडिकल जांच कराने के बाद अगले 14 दिनों तक क्वारनटाईन में रखा गया है। और इनके खाने पीने की भी प्रशासन द्वारा व्यवस्था की जा रही है। 17 मजदूरों में सभी राजस्थान के अलग-अलग शहरों के रहने वाले हैं। इधर कोरोनावायरस के चलते बड़ी संख्या में बस्तर से होते हुए तेलंगाना, आंध्र प्रदेश और उड़ीसा काम करने गए मजदूर वापस अपने घर की ओर पलायन कर रहे है। जिसके चलते आए दिन बस्तर पुलिस को ऐसे कई मजदूर मिल रहे हैं जो चोरी छुपे अपने घर जाने के फिराक में रहते हैं। फिलहाल इनके लिए जिला प्रशासन द्वारा इन्हें ठहराने की व्यवस्था की व्यवस्था की जा रही है। वही प्रशासन द्वारा इंटर कोआर्डिनेशन कर इन्हें आगे भेजने की तैयारी भी की जाएगी। (#STAYHOMESTAYSAFE)

शेयर करे...

दंतेवाड़ा। एक सैनिक पिता पर उस वक्त क्या बीत रही होगी ,जब वह, बॉर्डर पर ड्यूटी कर देश की सेवा कर रहे थे,और मीलों दूर उनका मासूम बेटा ज़िन्दगी और मौत की जंग लड़ रहा था। एक तरफ लॉकडाउन तो दूसरी ओर बेटे को बचाने की तड़प। लेकिन कोरोना के कारण बेबस पिता अपने बेटे से मिलने नहीं आ पाए, और मासूम बेटे ने अस्पताल में ही दम तोड़ दिया। इतना ही नहीं बेटे के अंतिम दर्शन बेबस पिता वीडियो कॉल के ज़रिए ही कर पाए।देश की सीमा पर तैनात हवलदार पिता राजकुमार दंतेवाड़ा के घोटपाल गांव के रहने वाले हैं। वे इन दिनों नेपाल बॉर्डर पर ड्यूटी कर रहे हैं। उनके सालभर का बेटा आदित्य पिछले कुछ महीने से ट्यूमर की समस्या से जूझ रहा था। जिसका इलाज चल रहा था। जनवरी में बेटे के इलाज के लिए राजकुमार घोटपाल आए थे। हैदराबाद बच्चे को लेकर गए। बच्चे की तबियत में सुधार देखते हुए राजकुमार वापस देश की सुरक्षा करने अपनी ड्यूटी पर चले गए। राजकुमार के भाई उमेश ने बताया कि आदित्य ठीक हो गया था। लेकिन बुधवार को अचानक तबियत बिगड़ी। ज़िला अस्पताल लेकर गए। जहां गुरुवार को मौत हो गई। पिता राजकुमार 14 सालों से परिवार से दूर रहकर देश की सेवा कर रहे हैं। मीलों दूर परिवार है। कोरोना और लॉक डाउन ने एक पिता को इतना बेबस कर दिया कि वे अपने मासूम बेटे की अंतिम यात्रा में भी शामिल नहीं हो पाए। वीडियो कॉलिंग पर अंतिम बार देखा देखते ही बिलख पड़े और कहा लव यू बेटा, मुझे माफ़ करना। मैं तुमसे मिलने नहीं आ सका। यह नजारा देख यहां मौजूद हर किसी की आंखों से आंसू छलक पड़े।

शेयर करे...

मेष: किया गया पुरुषार्थ सार्थक होगा। आर्थिक पक्ष मजबूत होगा। गृह उपयोगी वस्तुओं में वृद्धि होगी। शिक्षा के क्षेत्र में आशातीत सफलता मिलेगी।

वृष: आर्थिक पक्ष मजबूत होगा। संबंधों में निकटता आएगी। यात्रा देशाटन की स्थिति सुखद होगी। जीविका के क्षेत्र में प्रगति होगी।

मिथुन: उपहार या सम्मान में वृद्धि होगी। मांगलिक कार्य की दिशा में सफलता मिलेगी। सामाजिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी। आर्थिक पक्ष मजबूत होगा।

कर्क: स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहें। मौसम के रोग के प्रति सचेत रहें। सामाजिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी। उपहार या सम्मान में वृद्धि होगी।

सिंह: विरोधी या कोई अपना स्वास्थ्य तनाव का कारण होगा। आर्थिक मामलों में सचेत रहें। महिला अधिकारी का सहयोग मिलेगा।

कन्या: जीविका के क्षेत्र में प्रगति होगी। शासन सत्ता का सहयोग रहेगा। पारिवारिक दायित्व की पूर्ति होगी। उपहार या सम्मान में वृद्धि होगी।

तुला: रिश्तों में मधुरता आएगी, लेकिन स्वास्थ्य के प्रति उदासीन न रहें। धार्मिक प्रवृत्ति में वृद्धि होगी। शासन सत्ता से सहयोग लेने में सफल होंगे।

वृश्चिक: पारिवारिक जीवन सुखमय होगा। आर्थिक पक्ष मजबूत होगा। उपहार या सम्मान में वृद्धि होगी। यात्रा देशाटन की स्थिति सुखद होगी।

धनु: धार्मिक या सांस्कृतिक उत्सव में हिस्सेदारी रहेगी। पारिवारिक दायित्व की पूर्ति होगी। उपहार या सम्मान में वृद्धि होगी।

मकर: रचनात्मक कार्यों में सफलता मिलेगी। जीवनसाथी का सहयोग एवं सानिध्य मिलेगा। संबंधों में निकटता आएगी।

कुंभ: किसी कार्य के संपन्न होने से आपके प्रभाव में वृद्धि होगी। यात्रा देशाटन की स्थिति सुखद होगी। व्यावसायिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी।

मीन: पारिवारिक जीवन सुखमय होगा। आर्थिक पक्ष मजबूत होगा। रिश्तों में मधुरता आएगी। यात्रा देशाटन की स्थिति सुखद होगी।

शेयर करे...

रायपुर, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की पहल और निर्देशन पर राज्य सरकार के श्रम विभाग द्वारा कोरोना वायरस से उत्पन्न परिस्थितियों में संकटग्रस्त और जरूरतमंद श्रमिकों की09:18:09 सहायता के लिए अनेक उपाए किए गए हैं। इसके लिए राज्य स्तर पर 24 घंटे संचालित हेल्पलाईन नम्बर 0771-2443809 और 91098-49992 में प्राप्त 413 सूचनाओं पर तत्काल कार्यवाही करते हुए जरूरतमंद श्रमिकों को अब तक 68 लाख रूपए की सहायता उपलब्ध कराई गई। इसके साथ ही विभिन्न जिलों के श्रमिकों को उनके प्रबंधकों के माध्यम से उनके खातों में 15 लाख रूपए एडवांस वेतन भी दिलाया गया है।

श्रम विभाग द्वारा 2 हजार 957 जरूरतमंद श्रमिकों तक 214 किलो चावल और 10 किलो दाल भी पहुंचाया गया है। इस पहल से राज्य में स्थित विभिन्न कारखाना प्रबंधकों और ठेकेदारों के माध्यम से श्रमिकों के लिए राशन और अन्य जरूरी व्यवस्थाओं के लिए करीब 57 लाख रूपए की व्यवस्था भी सुनिश्चित की गई है। श्रम विभाग के हेल्पलाईन के माध्यम से प्राप्त सूचनाओं पर श्रमिकों की समस्याओं को पंजीबद्ध कर तत्काल यथासंभव समाधान किया जा रहा है। रायगढ़ में श्रमिकों को 15 दिन के वेतन के बराबर एडवांस में 14 लाख 39 हजार 550 रूपए और कोरबा जिले में श्रमिकों को 60 हजार रूपए एडवांस सेलरी नियोजक द्वारा दिलवाया गया है।

शेयर करे...

रायपुर: स्वास्थ्य मंत्री टी.एस. सिंहदेव ने आज भारत में दक्षिण कोरिया के राजदूत श्री शिन बॉग-किल से फोन पर चर्चा कर दक्षिण कोरिया द्वारा कोविड-19 के सफल नियंत्रण की रणनीति की जानकारी ली। उन्होंने किल से वहां कोविड-19 के संक्रमण को रोकने और पीड़ितों के इलाज के लिए किए गए उपायों सहित अस्पतालों में गई त्वरित व्यवस्था की भी जानकारी ली। सिंहदेव ने उन्हें इस बीमारी पर नियंत्रण के लिए छत्तीसगढ़ में त्वरित गति से उठाए जा रहे कदमों के बारे में बताया।

किल ने यहां सरकार द्वारा किए जा रहे कार्यों को सही दिशा में जाता कदम बताया। उल्लेखनीय है कि दक्षिण कोरिया कोविड-19 के सबसे बेहतर प्रबंधन एवं नियंत्रण में सफलता पाने वाला अग्रणी देश है। स्वास्थ्य मंत्री ने एम्स रायपुर के निदेशक डॉ. नितिन नागरकर से वीडियो कॉन्फ्रेसिंग से चर्चा कर वहां कोरोना वायरस संक्रमितों के इलाज के लिए की गई व्यवस्था की जानकारी ली। डॉ. नागरकर ने बताया कि एम्स में 200 लोगों के इलाज के लिए अलग से विशेष यूनिट तैयार किया जा रहा है। सिंहदेव ने वहां उपचाररत कोरोना पाजिटिव्ह पाए गए मरीजों के स्वास्थ्य के बारे में भी जानकारी ली।

शेयर करे...
Page 1 of 119