मध्य प्रदेश

मध्य प्रदेश (30)

भोपाल;-शिवराज सिंह चौहान चौौथीी बार मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली है। राज्यपाल ने रात 9 बजे मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई। ली और आज रात ही पदभार ग्रहण कर अधिकारियों की बैठक ली। शिवराज सिंह चौहान ने सीएम पद की शपथ लेने के बाद चौथी बार मध्य प्रदेश की कमान संभाली है। पहली बार वह 29 नवंबर 2005 में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री बने थे. इसके बाद शिवराज सिंह चौहान 12 दिसंबर 2008 में दूसरी बार सीएम बने. 8 दिसंबर 2013 को शिवराज ने तीसरी बार सीएम पद की शपथ ली थी।हाल में ही मध्य प्रदेश से कमलनाथ सरकार की विदाई हुई है. दरअसल, कांग्रेस के 22 विधायकों ने इस्तीफा दे दिया था. इसमें 6 मंत्री शामिल थे. स्पीकर ने मंत्रियों का इस्तीफा स्वीकार कर लिया था. इस्तीफे के कारण कमलनाथ सरकार अल्पमत में आ गई थी, लेकिन फ्लोर टेस्ट कराने की बजाए सदन को स्थगित कर दिया गया था।

शेयर करे...

भोपाल। मध्यप्रदेश में नए मुख्यमंत्री के नाम को लेकर भाजपा विधायक दल की बैठक सोमवार शाम 6 बजे प्रदेश कार्यालय में होगी। बैठक में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान,नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बीडी शर्मा सहित वरिष्ठ नेता और विधायक शामिल होंगे। वहीं केंद्रीय मंत्री धर्मेंद प्रधान,नरेंद्र सिंह तोमर,राष्ट्रीय महासचिव अनिल जैन और प्रदेश प्रभारी विनय सहस्त्रबुद्धे वीडियो कांफ्रेंस के जरिए जुड़ेंगे।

शेयर करे...

नई दिल्ली। मध्यप्रदेश में जारी सियासी उठापटक के बीच मंगलवार सुबह कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह और डी.के. शिवकुमार सरकार बचाने के लिए धरने पर बैठ गए। दिग्गी ने यह धरना बंगलूरू के रामदा होटल के पास दिया। उन्होंने बागी विधायकों से मिलने को लेकर धरना दिया। हांलाकि दिग्गी को पुलिस ने हिरासत में लिया। बता दें कि दिग्विजय को होटल के भीतर दाखिल नहीं होने दिया गया, जिसके बाद वह बाहर ही धरने पर बैठ गए। तब पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया था। अब दिग्विजय सिंह को बेंगलुरु के अमरुताहल्ली पुलिस स्टेशन से बाहर ले जाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मुझे नहीं पता कि मुझे कहां ले जाया जा रहा है। मैं कानून का पालन करने वाला नागरिक हूं। सरकार भी बचाएंगे और अपने विधायकों को भी वापस लाएंगे।कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह के बंगलूरू पुलिस द्वारा हिरासत में लेने को मुख्यमंत्री कमलनाथ ने तानाशाही और हिटलरशाही बताया है। सिंह ने आज बंगलूरू के रामादा होटल के पास धरना दिया था। वह विधायकों से मिलने की मांग पर अड़े थे। जहां से पुलिस ने उन्हें एहतियातन हिरासत में ले लिया।

शेयर करे...

नई दिल्ली: पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया बुधवार को भाजपा में शामिल होने के बाद आज यानि गुरुवार को भोपाल पहुंच रहे हैं। सिंधिया के स्वागत के लिए भोपाल में बीजेपी कार्यालय के पास सिंधिया के बड़े-बड़े होर्डिंग लगाए गए है। दो दिवसीय भोपाल दौरे से पहले सिंधिया ने दिल्ली में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात की। इस दौरे पर शुक्रवार को सिंधिया वरिष्ठ भाजपा नेताओं के साथ राज्यसभा के लिए पर्चा दाखिल करेंगे। वहीं सिंधिया के समर्थन में मध्यप्रदेश के कई कांग्रेस जिलाध्यक्षों सहित 10 हजार से ज्यादा कार्यकर्ताओं ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है।मिली जानकारी के अनुसार ज्योतिरादित्य सिंधिया शाम को तीन बजे भोपाल एयरपोर्ट पहुंचेंगे। एयरपोर्ट से वे भाजपा प्रदेश कार्यालय आकर पं. दीनदयाल उपाध्याय, विजयाराजे सिंधिया, कुशाभाऊ ठाकरे की प्रतिमाओं और माधवराव सिंधिया के चित्र पर माल्यार्पण करेंगे। इस दौरान कार्यालय में सिंधिया के स्वागत में एक कार्यक्रम का भी आयोजन किया जाएगा। अगले दिन यानी शुक्रवार 13 मार्च को दोपहर 12 बजे के आसपास सिंधिया फिर से भाजपा प्रदेश कार्यालय पहुंचेंगे। जहां फिर से पं. दीनदयाल उपाध्याय, विजयाराजे सिंधिया, कुशाभाऊ ठाकरे की प्रतिमाओं और माधवराव सिंधिया के चित्र पर माल्यार्पण कर वे वरिष्ठ भाजपा नेताओं के साथ राज्यसभा चुनाव के लिए नामांकन दाखिल करने विधानसभा जाएंगे।

शेयर करे...

नई दिल्ली. मध्य प्रदेश में जारी सियासी उठापटक के बीच दोपहर 2.50 बजे ज्योतिरादित्य सिंधिया भाजपा में शामिल हो गए। इससे पहले, सिंधिया अपने घर से काली रेंज रोवर में निकले। उनके साथ भाजपा नेता जफर इस्लाम थे, जो सिंधिया के भाजपा में शामिल होने के मुख्य सूत्रधार रहे हैं। सिंधिया ने 27 घंटे पहले कांग्रेस से इस्तीफा दिया था। भाजपा मुख्यालय में पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने सिंधिया को सदस्यता दिलवाई। सिंधिया थोड़ी ही देर में भोपाल के लिए रवाना होंगे। वे शुक्रवार को राज्यसभा के लिए नामांकन दाखिल कर सकते हैं।

शुक्रवार को ही मध्यप्रदेश की 3 राज्यसभा सीटों पर चुनाव के लिए नामांकन का आखिरी दिन है। खबरें आ रही हैं कि भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा सिंधिया के पार्टी में आने से नाराज हैं। उन्होंने अपनी नाराजगी आलाकमान के सामने जाहिर भी कर दी है। सिंधया के भाजपा में शामिल होने पर जेपी नड्डा ने कहा- आज हम सबके लिए खुशी का विषय है। मैं वरिष्ठतम नेता स्वर्गीय राजमाता सिंधियाजी को याद करता हूं, जो भारतीय जनसंघ में थीं। जनसंघ और भाजपा की स्थापना से लेकर विचारधारा को बढ़ाने में राजमाता सिंधियाजी का बहुत बड़ा योगदान रहा है। हमारे लिए राजमाताजी आदर्श थीं, दृष्टि और दिशा देने वाली नेता रहीं। जनसंघ और भाजपा के शैशव काल से ही उन्होंने दिनरात काम किया। हमारे लिए खुशी की बात है कि उनके पौत्र ज्योतिरादित्य सिंधियाजी भाजपा में शामिल हुए हैं।

मैं उनका अभिनंदन करता हूं। नड्डा ने कहा- ज्योतिरादित्यजी के नेतृत्व और प्रखरता से हम वाकिफ हैं। ये परिवार के सदस्य हैं। हम जानते हैं कि मोदीजी के नेतृत्व में हमारा मंत्र सबका साथ-सबका विकास-सबका विश्वास है। मोदीजी के नेतृत्व में इन्हें मुख्यधारा में काम करने का मौका मिलेगा। सिंधिया को भाजपा की गतिविधियों में शामिल होने और देश के भविष्य को बदलने का मौका मिलेगा।

शेयर करे...

भोपाल: मध्य प्रदेश में सियासी उठापटक जारी है। ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस से इस्तीफा दे चुके हैं। सिंधिया के कांग्रेस से इस्तीफे के बाद साफ हो गया है कि अब वो भाजपा का दामन थामेंगे। ज्योतिरादित्य सिंधिया के मंगलवार शाम भाजपा में शामिल होने की हलचल के बीच खबर आई कि अब भाजपा में शामिल होंगे। हालांकि देर शाम खबर यह भी आई थी कि सिंधिया 12-13 मार्च को भाजपा की सदस्यता ग्रहण कर सकते हैं।बताया जा रहा है कि सिंधिया बुधवार को दिल्ली में भाजपा में शामिल होंगे। इसके बाद सिंधिया दिल्ली से ग्वालियर जाएंगे इसके बाद 12-13 मार्च को भोपाल पहुचेंगे।

शेयर करे...

भोपाल: कांग्रेस से इस्तीफा देने के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया अपने आवास पर पहुंच गए हैं। वह जल्द भाजपा में शामिल होने का एलान कर सकते हैं। वहीं समाचार एजेंसी एएनआइ के अनुसार कांग्रेस ने उन्हें पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने के लिए निकाल दिया। कांग्रेस नेता केसी वेणुगोपाल ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष ने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस से ज्योतिरादित्य सिंधिया को पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने के लिए तत्काल प्रभाव से निष्कासित कर दिया। उस पत्र पर 9 मार्च की तारीख लिखी हुई है। इससे पहले वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उनके आवास पर मिले। इस दौरान उनके साथ गृहमंत्री अमित शाह भी मौजूद थे। वह यहां शाह से साथ ही पहुंचे थे।

शेयर करे...

रायपुर : मध्यप्रदेश में शह और मात का खेल लगता है आखिरी दौर में पहुंच गया है। सरकार बनने के बाद से जोर आजमाइश का दौर चला आ रहा है जो अब निर्णायक मोड़ पर आ गया है। कांग्रेस के 14 विधायक बेंगलुरु पहुंच गए हैं। उधर कमलनाथ ने आपात बैठक बुला ली है जिसमें दिग्विजय सिंह जैसे वरिष्ठ नेता भी शामिल हो रहे हैं। अचानक बुलाई बैठक सरकार पर मंडरा रहे खतरे की ओर इशारा कर रही है। उधर ज्योतिरादित्य सिंधिया समर्थक सिसोदिया ने 2 दिन पहले सिंधिया की उपेक्षा का खामियाजा भुगतने की बात कही थी जो आज सामने नजर आ रही है। बहरहाल देखना यह होगा कि क्या कमलनाथ इस संकट को भी मैनेज कर पाते हैं या फिर उनके हाथ से देश का दिल मध्यप्रदेश निकल जाएगा।

शेयर करे...

नई दिल्ली। कोरोना वायरस का असर भारत में भी दिखना शुरू हो गया है। कोरोना के दहशत के कारण मध्यप्रदेश में आईफा अवॉर्ड का आयोजन टाल दिया गया है। अभी तक इसके आयोजन की अगली तिथि को लेकर कोई आधिकारिक जानकारी सामने नहीं आई है। बता दें कि 27 मार्च से 29 मार्च तक आईफा अवॉर्ड का आयोजन होना था। कोरोनावायरस के कारण राजनीति, खेल, तकनीकी से संबंधित देश और दुनिया में बहुत से अन्य कार्यक्रमों को भी अग्रिम सूचना तक के लिए निरस्त कर दिया गया है।

शेयर करे...

मध्यप्रदेश। मध्य प्रदेश के कोतमा क्षेत्र की नवमीं कक्षा की छात्रा को अगवा कर जंगल में सामूहिक दुष्कर्म करने का मामला सामने आया है। पुलिस ने मामले की शिकायत पर अपराध दर्ज कर आरोपित युवक व किशोर को गिरफ्तार कर लिया है। मिली जानकारी के अनुसार घटना गौरेला-पेंड्रा-मरवाही जिले के मरवाही थाना क्षेत्र के गांव की है। मध्यप्रदेश के अनूपपुर जिले के कोतमा क्षेत्र की किशोरी नवमीं कक्षा में पढ़ती है। वह मरवाही के पास गांव में अपने रिश्तेदार के यहां शादी समारोह में शामिल होने पहुंची थी साथ में उसके माता-पिता भी थे। मंगलवार की शाम किशोरी मोहल्ले में अपनी सहेली के साथ खेल रही थी। तभी वहां ग्राम जल्दा निवासी हेमंत सिंह गोड़ व उसका नाबालिग दोस्त पहुंचकर किशोरी को जबरिया उठाकर जंगल की तरफ ले गए। आरोपितों की गतिविधि देखकर अपहृत छात्रा की सहेली डर गई

शेयर करे...
Page 1 of 3