देश

देश (922)

 

नोएडा इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस (ISB) के भारती इंस्टीट्यूट ऑफ पब्लिक पॉलिसी (BIPP) द्वारा एक पोर्टल की शुरुआत की गई थी। जो खासकर पत्रकारों के लिए है। यह जनवरी 2020 में लॉन्च हुआ था, जो एक वन-स्टॉप ओपन-एक्सेस पोर्टल है। जिसका लाभ शोधार्थी, छात्र, नीति निर्माता, प्रशासक, गैर सरकारी संगठन और उद्यमी भी उठा सकते हैं। इसमें कृषि, ग्रामीण विकास और वित्तीय समावेशन से संबंधित जानकारी, डाटा और विज़ुअलाइज़ेशन के लिए रिपॉजिटरी में सार्वजनिक डाटासेट के संग्रह शामिल हैं। 

 

आईडीपी में जीएसटी, उर्वरक बिक्री, मनरेगा आदि के रूप में आर्थिक सुधार के उच्च आवृत्ति संकेतक (दैनिक और मासिक डाटा दोनों) पर एक अलग अनुभाग (इंडियापल्स आईएसबी) सहित विभिन्न डाटासेट को जोड़ने जैसी विशेषताएं भी हैं। पोर्टल 6 अलग-अलग भारतीय भाषाओं अंग्रेजी, हिंदी, बंगाली, मराठी, उड़िया, तेलुगु में उपलब्ध है।  कृपया www.indiadataportal.com का लिंक देखें।

 

सत्र का संचालन आईएसबी की सीनियर कंसल्टेंट (संचार एवं आउटरीच) दीप्ति सोनी द्वारा आईडीपी के कंसल्टेंट उपेंद्र सिंह के सहयोग से किया गया। कार्यशाला में पोर्टल एवं डेटासेट का परिचय और आकर्षक विज़ुअलाइज़ेशन कैसे बनाया जाए, इस पर चर्चा की गई। वर्कशॉप के अंत में प्रश्नोत्तर सत्र भी हुआ।

शेयर करे...

 

महाराष्ट्र सरकार में मंत्री नवाब मलिक लगातार नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) पर निशाना साध रहे हैं. आज उन्होंने एनसीबी से सवाल किया कि ये फ्लेचर पटेल कौन है और उसका एनसीबी से क्या संबंध है? उन्होंने ट्वीट कर के कहा कि मैं एनसीबी के गलत काम को फिर से सबके सामने रखने वाला हूं. नवाब मलिक के इस बयान पर एनसीबी को ज़ोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े का बयान सामने आया है.

 

एनसीबी पर लगाए गए आरोपों पर समीर वानखेड़े ने कहा, "सत्यमेव जयते." इसके अलावा उन्होंने आरोप लगाने वाले नवाब मलिक को शुभकामनाएं भी दीं.

नवाब मलिक का आरोप है कि कई मामलों में फ्लेचर पटेल नाम के ही शख्स को क्यों स्वतंत्र पंच बनाया जाता है. मलिक ने कहा उनके पास तीन मामलों के पंचनामा की कॉपी है, जिसमें उसे स्वतंत्र पंच बनाया गया है. नियमों के मुताबिक, जिस जगह छापेमारी की जाती है वहां पर आस-पास के लोगों को ही पंच बनाया जाता है. नवाब मलिक ने आरोप लगाया कि इसे देखकर ऐसा शक होता है कि क्या सारे मामले प्लानिंग करके बनाए जा रहे हैं?

 

मंत्री नवाब मलिक ने कहा, 'क्या लोगों को फंसाने की साजिश रची जा रही है. फ्लेचर पटेल ने एक महिला के साथ तस्वीर डाली है जिसको वह लेडी डॉन नाम से संबोधित कर रहा है. उस महिला के सोशल मीडिया प्रोफाइल को देखें तो पता चलता है उसका सरनेम वानखेड़े है और वह महिला एक राजनीतिक पार्टी से जुड़ी है. इसको देखने के बाद सवाल उठता है कि क्या ये लोग फिल्म इंडस्ट्री को टारगेट कर रहे हैं.'

 

फ्लेचर पटेल ने मीडिया से बात करते हुए नवाब मलिक द्वारा लगाये आरोपों को बेबुनियाद बताया. साथ ही नवाब मलिक पर पलटवार करते हुए सवाल किया कि उन्होंने सैनिको के लिये अभी तक क्या किया है. आज ड्रग्स मामले में जो कार्रवाई हो रही है उसपर नबाब मलिक को आपत्ती क्यों है?

 

 

फ्लेचर पटेल ने कहा कि सलमान और शाहरुख को रोल मॉडेल नहीं समीर वानखेडे को रोल मॉडल मानना चाहीये. उन्होंने कहा कि किसी भी सैनिक पर बेवजह आरोप ना लगाए. हमे अपना देश प्रेम साबित करने के लिए नवाब मलिक के सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं है. जब भी ड्रग्स के खिलाफ कार्रवाई होती है, उसपर नवाब मलिक खड़े हो जाते हैं.

 

कौन है फ्लेचर पटेल 

 

 

फ्लेचर पटेल फिलहाल फिटनेस ट्रेनर के रूप में काम करता है. एनसीबी की कई कार्रवाई में वो स्वतंत्र पंच के तौर पर होता है. अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती मामले में जितनी कार्रवाई हुई उसमें से बहुत सी कार्रवाई में फ्लेचर पटेल स्वतंत्र पंच है. बता दें कि फ्लेचर पटेल 20 साल से ज़्यादा समय तक भारतीय सेना में काम कर चुके हैं और उसके बाद वो रिटायर हुए. 

 

क्योंकि फ्लेचर फौज में थे इस वजह से रिटायरमेंट के बाद वो रिटायर्ड सैनिक संस्था के मुंबई अध्यक्ष हैं. कारगिल दिवस 2020 के समय उन्होंने समीर वानखेड़े को भी बुलाया था और कहा था कि वो ड्रग्स के ख़िलाफ़ काम करेंगे. पटेल ने 1999 में कार्गिल युद्ध में एक भूमिका निभाई है.

शेयर करे...

 

 

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज रायपुर में नेशनल इंस्टीट्यूट बायोटेक स्ट्रेस मैनेजमेंट के नये परिसर का लोकार्पण वीडियो कॉफ्रेंस के माध्यम से किया। इस अवसर पर उन्होंने जलवायु परिवर्तन के प्रभावों से फसलों को बचाने तथा लाभकारी खेती के लिए छत्तीसगढ़ में किए जा रहे प्रयासों की सराहना की।

IMG 20210928 162924

प्रधानमंत्री ने छत्तीसगढ़ राज्य में सुराजी गांव योजना के तहत गांव में निर्मित गौठानों में गोधन न्याय योजना के तहत गोबर की खरीदी और उससे जैविक खाद के साथ-साथ अब बिजली उत्पादन की राज्य सरकार की योजना को भी सराहा। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि इस समय हमें किसानों को फसल आधारित लाभ से बाहर निकालकर वेल्यू एडिशन की ओर ले जाने की जरूरत है। उन्होंने मौसम की स्थानीय परिस्थितियों के अनुरूप फसल उत्पादन को बढ़ावा देने पर जोर दिया। छत्तीसगढ़ राज्य में लघु धान्य फसलों (मिलेट्स) को बढ़ावा देने के लिए छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा शुरू किए गए मिशन मिलेट को उन्होंने समय की जरूरत कहा। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने इस मौके पर विशेष गुणों वाली 35 फसलों की किस्में भी राष्ट्र को समर्पित की।IMG 20210928 163822

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने नेशनल इंस्टीट्यूट बायोटेक स्ट्रेस मैनेजमेंट के नये परिसर के लोकार्पण अवसर पर अपने निवास कार्यालय से वीडियो कॉन्फ्रंेसिंग के जरिए शामिल हुए। श्री बघेल ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी सहित सभी लोगों का अभिनंदन करते हुए कहा कि जलवायु सहिष्णुता तकनीकी एवं पद्धतियों के प्रचार-प्रसार के लिए भारत सरकार द्वारा शुरू किए जा रहे जागरूकता अभियान में छत्तीसगढ़ की व्यापक भागीदारी होगी। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर जलवायु परिवर्तन की चुनौतियों का विस्तार से उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में जलवायु परिवर्तन के प्रभावों को कम करने के लिए कई कदम उठाए गए हैं। नरवा, गरवा, घुरूवा, बाड़ी के माध्यम से प्राकृतिक संसाधनों को संरक्षण एवं स्थानीय संसाधनों के बेहतर उपयोग से ग्रामीण अर्थव्यवस्था को बेहतर बनाने का प्रयास किया जा रहा है। गोधन न्याय योजना और राजीव गांधी किसान न्याय योजना से खेती-किसानी को समृद्ध बनाने की पहल की गई है। राज्य में गोधन न्याय योजना के तहत गौठानों में गोबर की खरीदी कर उससे जैविक खाद का उत्पादन किया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि अब गोबर से बिजली उत्पादन की शुरूआत 2 अक्टूबर से करने जा रहे हैं। मुख्यमंत्री निवास कार्यालय में कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे, मुख्यमंत्री के सलाहकार प्रदीप शर्मा, मुख्यमंत्री के अपर मुख्य सचिव सुब्रत साहू, कृषि उत्पादन आयुक्त डॉ.कमलप्रीत सिंह सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे। 

शेयर करे...

हरियाणा के सोनीपत में स्थित ओपी जिन्दल ग्लोबल यूनिवर्सिटी (ओपीजेजीयू) ने विश्व स्तर पर अभूतपूर्व छलांग लगाई है। वह क्यूएस वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग-2022 की ग्रेजुएट एम्पलॉयबिलिटी रैंकिंग में दुनिया के 500 विश्वविद्यालयों में शामिल हो गई है। यूनिवर्सिटी के संस्थापक कुलाधिपति  नवीन जिन्दल ने इस उपलब्धि के लिए पूरी टीम को बधाई दी है और कहा है कि 30 सितंबर को ओपी जिन्दल ग्लोबल यूनिवर्सिटी की स्थापना की 12वीं वर्षगांठ के अवसर पर यह एक उत्साहवर्धक उपलब्धि है।

IMG 20210924 144103

यहां जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक ओपीजेजीयू मानविकी, कला, साहित्य और प्रबंधन संकायों को समर्पित (नॉन स्टेम) एकमात्र भारतीय यूनिवर्सिटी है, जिसे क्यू वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग-2022 में यह स्थान प्राप्त हुआ है। इस उपलब्धि पर हर्ष व्यक्त करते हुए श्री नवीन जिन्दल ने कहा कि हम 30 सितंबर 2021 को ओपीजेजीयू की 12वीं वर्षगांठ मनाने जा रहे हैं और इससे बेहतर समय क्या हो सकता है, जब यह महत्वपूर्ण उपलब्धि हमें प्राप्त हुई। यह उस दृष्टिकोण और सपनों का सच्चा प्रतिबिंब है, जिस कारण 2009 में ओपीजेजीयू की स्थापना हुई।

 

 जिन्दल ने कहा कि यह सम्मान वास्तव में ओपीजेजीयू के संकाय सदस्यों, छात्रों और कर्मचारियों के उत्कृष्ट योगदान का परिणाम है और जो यह साबित करता है कि एक उत्कृष्टता केंद्र के रूप में स्थापित करने के प्रयास से ओपीजेजीयू ने जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में अनेक सफल प्रतिभाएं दी हैं, जो समाज निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान कर रहे हैं।

 

ओपीजेजीयू के संस्थापक कुलाधिपति ने कहा कि कोविड-19 महामारी के इस चुनौतीपूर्ण वर्ष में यह एक अनुपम उपलब्धि है क्योंकि  विशेष रूप से वैश्विक स्तर पर छात्रों के रोजगार को इस महामारी ने बुरी तरह प्रभावित किया। यह देखकर गर्व हो रहा है कि ओपीजेजीयू ने इस महामारी के दौरान भी छात्रों को विश्वस्तरीय रोजगार के अवसर प्रदान करने की सभी चुनौतियों को पार कर लिया है।

शेयर करे...

 

 

देश भर में स्कूलों को खोलने की मांग पर सुनवाई से सुप्रीम कोर्ट ने मना कर दिया है.  कोर्ट ने कहा है कि वह हर जगह का प्रशासन नहीं चला सकता.  हर राज्य में सरकार स्थानीय परिस्थितियों के आधार पर निर्णय ले रही है.  एक आदेश पारित कर न तो सभी राज्यों से स्कूल खोलने को कहा जा सकता है, न अभिभावकों को बाध्य किया जा सकता है कि वह अपने बच्चों को स्कूल भेजें

 

दिल्ली के रहने वाले कक्षा 12वीं के एक छात्र ने यह याचिका दाखिल की थी.  इसमें कहा गया था कि पिछले साल से छात्रों की पढ़ाई बहुत बाधित हुई है.  स्कूल न जा पाने का असर उनके शारीरिक और मानसिक विकास पर पड़ रहा है.  अब कोरोना नियंत्रण में नज़र आ रहा है.  ऐसे में सुप्रीम कोर्ट केंद्र और राज्य सरकारों को निर्देश दे कि वह स्कूलों को खोलने पर जल्द निर्णय लें.

 

बेहतर हो कि आप पढ़ाई पर ध्यान दें- सुप्रीम कोर्ट

 

 

सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़ और बी वी नागरत्ना की बेंच ने कहा कि यह याचिका तर्कसंगत नहीं है.  बेंच ने कहा, "हम यह नहीं कहते कि याचिका प्रचार के लिए दाखिल की गई है. लेकिन बेहतर हो कि आप पढ़ाई पर ध्यान दें. हर राज्य में सरकार स्थानीय परिस्थितियों के अनुसार निर्णय ले रही है.  हमें नहीं पता कि किस जिले में बीमारी के फैलने का कितना अंदेशा है.  यह भी नहीं पता कि शिक्षकों और कर्मचारियों का टीकाकरण पूरा हुआ या नहीं.  सरकार लोगों के प्रति अपने कर्तव्य को समझती है.  उसे ही तय करने दीजिए. "

 

 

कोर्ट ने यह भी कहा कि कम आयु के बच्चों को कोरोना से बचाने को लेकर हर कोई चिंतित है.  दुनिया में कुछ देशों ने स्कूल और दूसरी सार्वजनिक जगहों को खोलने का निर्णय जल्दबाजी में लिया.  उन्हें उसका नुकसान उठाना पड़ा.  कोर्ट के इस रुख को देखते हुए याचिकाकर्ता के वकील रवि प्रकाश मेहरोत्रा ने इसे वापस ले लिया.

शेयर करे...

पर्यटन क्षेत्र को हर मदद का आश्वासन देते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि 5 लाख विदेशी पर्यटकों को मुफ्त वीजा दिया जाएगा. पर्यटन क्षेत्र से जुड़े साझेदारों को 100% सरकारी गारंटी के साथ 10 लाख रुपये तक के लोन का इंतजाम किया गया है. रिकार्ड वैक्सीनेशन पर कांग्रेस नेताओं की प्रतिक्रिया पर भी उन्होंने तंज करते हुए कहा कि इससे एक राजनीतिक दल को बुखार आ गया.

 

हालांकि उन्होंने आगाह किया कि अभी सतर्क रहने की जरूरत है. वायरस अभी गया नहीं है. उन्होंने भरोसा दिलाया कि केंद्र सरकार पर्यटन को गति देने के लिए हर मोड़ पर खड़ी होगी. कोरोना की तीसरी लहर की कम होती आशंका और वैक्सीनेशन में रिकार्ड तोड़ तेजी के बीच अब सरकार पर्यटन व्यवसाय को आगे बढ़ाने की तैयारी में जुट गई है. उन्होंने कहा, कुछ महीने पहले तक वैक्सीनेशन बहुत बड़ा राजनीतिक मुद्दा बना हुआ था.

शेयर करे...

भूपेंद्र पटेल गुजरात के अगले मुख्यमंत्री होंगे. कई बड़े नामों को पीछे छोड़ते हुए उन्होंने सभी को चौका दिया. बीजेपी की विधायक दल की बैठक में उनके नाम पर मुहर लगी. केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बैठक में भूपेंद्र पटेल के नाम का एलान किया. भूपेंद्र पटेल पाटीदार समाज से आते हैं

 

भूपेंद्र पटेल ने सीएम के तौर पर अपने नाम का एलान होने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा का शुक्रिया अदा किया. 

 

 

भूपेंद्र पटेल ने सीआर पाटिल और विजय रुपाणी का शुक्रिया अदा किया. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि मुझपर जो विश्वास किया उसे टूटने नहीं देंगे और विकास के काम को आगे बढ़ाएंगे. उन्होंने कहा कि संगठन को साथ लेकर विकास के काम को करेंगे. 

 

पूर्व सीएम विजय रुपाणी ने आधिकारिक तौर पर विधायक दल की बैठक नें भूपेंद्र पटेल के नाम का प्रस्ताव रखा. नए सीएम के नाम का एलान हो जाने के बाद विजय रुपाणी ने कहा कि बूपेंद्र पटेल सक्षम हैं. उन्होंने कहा कि हम मानते हैं कि उनकी लीडरशीप में आगामी चुनाव में बीजेपी की जीत होगी

 

59 साल के भूपेंद्र पटेल पाटीदार समाज से आते हैं. इसके साथ ही भूपेंद्र पटेल आरएसएस से लंबे समय से जुड़े रहे हैं. वहीं AUDA के चेयरमैन भी रह चुके हैं. पटेल समुदाय में भी इनकी अच्छी पकड़ मानी जाती है. 2017 के चुनाव में भूपेंद्र पटेल ने अच्छे वोटों से जीत दर्ज की थी. विधानसभा चुनाव में भूपेंद्र पटेल 1 लाख 17 हजार वोटों से जीते थे.

शेयर करे...

 

दिल्ली का इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा (IGI Delhi) और जेवर में बन रहा नोएडा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा (Noida International Airport) मिलकर देश के नागरिक उड्डयन उद्योग की तस्वीर बदल देंगे। आने वाले कुछ वर्षों में यह दोनों हवाई अड्डे किस तरह मिलकर काम करेंगे, इसका पूरा ब्यौरा केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य माधवराव सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) ने दिया है। सिंधिया ने खाका पेश करते हुए बताया कि आने वाले वक्त में जेवर हवाई अड्डा किस तरह काम शुरू करेगा। इसकी बदौलत ना केवल दिल्ली-एनसीआर और उत्तर प्रदेश बल्कि पूरे देश को कितना बड़ा फायदा होगा। साथ ही दिल्ली के आईजीआई एयरपोर्ट का भी विस्तार और विकास सरकार कर रही है।

 

जेवर एयरपोर्ट से 30 हजार करोड़ रुपये का निवेश हो रहा है

 

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने प्रेस इनफार्मेशन ब्यूरो में संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा, "लंबे अरसे से उपेक्षित उत्तर प्रदेश में एक अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा अपेक्षित था। अब यह कमी दूर होने वाली है। उत्तर प्रदेश के गौतमबुद्ध नगर जिले में जेवर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा बनाया जा रहा है। यह एशिया का सबसे बड़ा हवाई अड्डा बनेगा। जेवर में नागरिक उड्डयन का एक नया केंद्र बनने जा रहा है। मैं मानता हूं कि जेवर केवल उत्तर प्रदेश के लिए ही नहीं बल्कि पूरे देश के लिए एक महत्वकांक्षी परियोजना है। जेवर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा 30,000 करोड रुपए के निवेश वाला प्रोजेक्ट रहेगा। इसके पहले चरण का विकास करने पर 9,000 करोड रुपए खर्च हो रहे हैं। इस हवाई अड्डे का विकास चार चरणों में किया जाएगा।"

 

7 करोड़ यात्री सालाना तक क्षमता का होगा जेवर एयरपोर्ट

 

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा, "जेवर एयरपोर्ट का पहला चरण पूरा होने पर यहां से हर साल 1.20 करोड़ यात्री हवाई यात्रा कर सकेंगे। इसके बाद धीरे-धीरे इसका चार चरणों में विकास पूरा किया जाएगा। चौथे चरण का काम पूरा होने के बाद जेवर एयरपोर्ट की क्षमता बढ़कर 7 यात्रियों के आवागमन की हो जाएगा। मैं एक उदाहरण आपको देना चाहता हूं। दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे की वर्ष 2006 में शुरुआती क्षमता 1.6 करोड़ यात्री की थी। अब दिल्ली हवाई अड्डे से हर साल 7 करोड़ यात्री आवागमन कर रहे हैं। इस हवाई अड्डे के आधुनिकीकरण और विस्तार पर काम चल रहा है। इस फेज का काम पूरा होने पर दिल्ली हवाई अड्डे की क्षमता बढ़कर 10 करोड यात्री तक पहुंच जाएगी।"

 

दिल्ली-एनसीआर में दो समांतर हवाई यात्रा के केंद्र बन जाएंगे

 

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने आगे कहा, "दिल्ली अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के आधुनिकीकरण और विस्तार का फेज पूरा होने के साथ ही जेवर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा भी ऑपरेशनल हो जाएगा। इस तरह दिल्ली-एनसीआर में हवाई यात्रा के लिए दो समांतर केंद्र विकसित हो जाएंगे।" आपको बता दें कि दिल्ली के आईजीआई एयरपोर्ट और गौतमबुद्ध नगर के जेवर में बन रहे अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के बीच करीब 70 किलोमीटर का फासला है। केंद्र और राज्य सरकार दोनों हवाई अड्डों को आपस में जोड़ने की परियोजना पर भी तेजी से काम कर रहे हैं। यह दोनों हवाई अड्डे एक्सप्रेसवे, फास्ट मेट्रो और रैपिड रेल के जरिए जोड़े जाएंगे।

 

दिल्ली-एनसीआर से हर साल 17 करोड यात्री उड़ान भरेंगे

 

आप इस महत्वकांक्षी परियोजना का अंदाजा इस बात से लगा सकते हैं कि जब जेवर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के चारों चरणों का विकास पूरा हो जाएगा और इसके समांतर दिल्ली अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के आधुनिकीकरण व विस्तार का चरण पूरा हो जाएगा तो इन दोनों केंद्रों से हर साल 17 करोड लोग हवाई यात्राएं करने में सक्षम होंगे। अभी दिल्ली-एनसीआर का पूरा बोझ अकेले इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर है। जहां से हर साल 7 करोड लोग हवाई यात्राएं कर रहे हैं। मतलब, आने वाले वर्षों में करीब ढाई गुना लोगों को जेवर और दिल्ली हवाई अड्डों से वायु यातायात की सुविधाएं मिलेंगी। आपको एक जानकारी और दे दें कि इस वक्त दुनिया के सबसे व्यस्ततम हवाई अड्डों में दिल्ली एयरपोर्ट का स्थान पहला है।

 

कोरोना ने एविएशन इंडस्ट्री को बड़ा नुकसान पहुंचाया

 

करीब 2 साल पहले दुनिया भर में कोरोनावायरस के कारण फैली महामारी ने तमाम उद्योगों को भारी नुकसान पहुंचाया है जिन उद्योगों को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है उनमें नागरिक उड्डयन भी शामिल है अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि वित्त वर्ष 2020 21 के दौरान इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से केवल 2,25,83,736 यात्रियों ने उड़ान भरी। यह 66.4% गिरावट है। मतलब, इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे को सामान्य वर्षों के मुकाबले बमुश्किल 33 फ़ीसदी यात्री मिल पाए। इनमें अंतरराष्ट्रीय यात्रियों की संख्या केवल 32,07,233 थी। विदेशी यात्रियों के आवागमन में 82.0% गिरावट हुई है। 1 अप्रैल 2020 से 31 मार्च 2021 के बीच यहां से केवल 2,13,986 वायुयानों ने आवागमन किया है। यह 52.4% की गिरावट है। हालांकि, सबसे कम गिरावट मालवाहन में दर्ज की गई है। इस दौरान 7,37,431 टन लाया या ले जाया गया है। यह केवल 22.9% कमी है।

शेयर करे...

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज डिजिटल माध्यम से पांच देशों के समूह ब्रिक्स (ब्राजील, रूस, चीन, भारत और दक्षिण अफ्रीका) के सालाना शिखर सम्मेलन की अध्यक्षता करेंगे. भारत साल 2021 में ब्रिक्स की अध्यक्षता कर रहा है. इस बैठक में ब्राजील के राष्ट्रपति जाइर बोलसोनारो, रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन, चीन के राष्ट्रपति शी चिनपिंग और दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति सिरिल रामाफोसा उपस्थित रहेंगे. बैठक में अफगानिस्तान के ताजा हालात पर व्यापक रूप से ध्यान केंद्रित किए जाने की उम्मीद है.

शेयर करे...

अनूपपुर/जैतहरी:थाना जैतहरी जिला अनूपपुर के अंतर्गत भीमसेन रौतेल निवासी कछराटोला जैतहरी के दिनांक 06.08.2021 को घर से गायब होने की सूचना भीमसेन रौतेल की पत्नी काजल रौतेल द्वारा थाना जैतहरी में दी गई। जिस पर थाना जैतहरी में गुमइंसान पंजीबद्ध कर जाॅच में लिया गया। गुम इंसान जाॅच के दौरान मृतक भीमसेन का शव गा्रम बगवाकछार में रोड के किनारे नाली में दबा मिला। जाॅच के दौरान तथा घटनास्थल के निरीक्षण से कुछ ऐसे तथ्य सामने आये जिसे देखकर यह प्रतीत हो रहा था कि घटना का स्वरुप एवं प्रकृति कुछ और है। घटना की गंभीरता को दृष्टिगत रखते हुए पुलिस अधीक्षक अनूपपुर अखिल पटेल द्वारा घटनास्थल का निरीक्षण किया गया। पुलिस अधीक्षक द्वारा अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अनूपपुर, एसडीओपी अनूपपुर एवं थाना प्रभारी जैतहरी को जाॅच के संबंध में बिन्दुवार कार्यवाही करने हेतु निर्देशित किया गया। जाॅच के दौरान वैज्ञानिक पद्धति का सहारा लिया गया। पूछताछ के दौरान आए तथ्यों के आधार पर तीरथ राठौर पिता रम्मू राठौर उम्र 45 वर्ष निवासी जैतहरी एवं किशन राठौर पिता दुर्गा राठौर उम्र 22 वर्ष निवासी जैतहरी की पुष्टि संदेही के रुप में की गयी जो घटना दिनांक से फरार थे। उन्हे हिरासत में लेने हेतु विशेष टीम गठित की गयी। संदिग्ध आरोपियों तीरथ राठौर और किशन राठौर को पुलिस की विशेष टीम गठित द्वारा धनौली जिला पेन्ड्रा-गौरेला-मरवाही (छग.)से हिरासत में लिया गया। पूछताछ के दौरान आरोपी तीरथ राठौर ने स्वीकार किया कि मृतक भीमसेन के घर उसका आना जाना रहता था। मृतक अपनी पत्नी को मारपीट कर प्रताडि़त करता था। जिसकी जानकारी काजल उसे दिया करती थी। घटना दिनांक 06.08.2021 को भी मृतक ने अपनी पत्नी से मारपीट की थी, यह बात उस दिन काजल के द्वारा उसे बतायी गयी थी। जिस पर आवेश में आकर रात्रि के समय तीरथ राठौर अपने साथी किशन राठौर के साथ मिलकर भीमसेन के घर जा कर जब भीमसेन नींद में सो रहा था, तब डण्डे से प्रहार कर मार दिया। शव को छिपाने के लिए उसे नाली में दबा दिया जिससे किसी को पता न चलें। दोनों आरोपियों तीरथ राठौर पिता रम्मू राठौर उम्र 45 वर्ष निवासी जैतहरी एवं किशन राठौर पिता दुर्गा राठौर उम्र 22 वर्ष निवासी जैतहरी को गिरफ्तार कर माननीय न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किया जा रहा है। पुलिस अधीक्षक अनूपपुर अखिल पटेल के निर्देश पर अति0पुलिस अधीक्षक अभिषेक राजन, एसडीओपी कीर्ति बघेल व थाना प्रभारी जैतहरी के के त्रिपाठी की टीम एवं सायबर सेल के आर. राजेन्द्र अहिरवार व आर. पंकज मिश्रा द्वारा इस अंधी हत्या के आरोपियों को गिरफ्तार करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई गई। पुलिस अधीक्षक अखिल पटेल द्वारा अज्ञात आरोपी की गिरफ्तारी पर ₹10000 के इनाम की घोषणा की गई थी। जिसे इस अंधी हत्या का पर्दाफाश करने वाले पुलिसकर्मियों को प्रदान किया जाएगा।

शेयर करे...
Page 1 of 66

Magazine