पैरालिंपिक में भारत को दिलाया भाविना पटेल ने सिल्वर ,उनके गांव में जश्न का माहौल, परिवार सहित लोगों ने खेला गरबा Featured

 

टोक्यो में चल रहे पैरालंपिक गेम्स में भारत की भाविना पटेल ने सिल्वर मेडल अपने नाम कर लिया है. महिला एकल क्लास 4 मुकाबले के फाइनल में ऐतिहासिक जीत से हर तरफ खुशी का माहौल है. चारों तरफ से भाविना पटेल को बधाइयों के संदेश मिल रहे हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी भारत की बेटी की जीत पर बधाई दी है. गौरतलब है कि टेबल टेनिस में भारत के लिए मेडल जीतने वाली भाविना पटेल पहली खिलाड़ी हैं. भाविना से पहले कोई भी भारतीय खिलाड़ी क्वार्टर फाइनल तक नहीं पहुंच पाया था. 

 

 

गुजरात के मेहसाणा जिले के पैत्रिक गांव सुंधिया में जीत पर जश्न का माहौल है. परिवार के सदस्यों और मित्रों ने जीत का जश्न पारंपरिक ‘गरबा’ नृत्य, पटाखे जलाकर और एक दूसरे पर गुलाल लगाकर मनाया. हालांकि, भाविना पटेल को टेबल टेनिस के फाइनल मुकाबले में चीन की यिंग के हाथों हार का सामना करना पड़ा. दुनिया की नंबर एक खिलाड़ी चीन की झाउ यिंग ने 0-3 से भाविना को शिकस्त दी. भाविना के पिता हसमुख पटेल ने बेटी की जीत के बाद पत्रकारों से कहा, ‘‘भाविना भले ही दिव्यांग हो लेकिन हमने उसे कभी इस तरह नहीं देखा. हमारे लिए बेटी ‘दिव्य’ है. हमें बेहद खुशी है कि उसने देश के लिए सिल्वर मेडल जीता.’’

 

 

सिल्वर मेडल जीतने पर लोग गौरवान्वित

 

 

पिता हसमुख गांव में किराने की छोटी दुकान चलाते हैं. भाविना के पैत्रिक गांव में तोक्यो से मैच का सीधा प्रसारण देखने के लिए बड़ी स्क्रीन लगाई गई थी. सुबह से ही लोग मैच देखने के लिए इकट्ठा होना शुरू हो गए थे. पहले पैरालंपिक के फाइनल में हार के बावजूद लोगों ने जमकर जश्न मनाया. मुकाबला खत्म होने के साथ ही लोगों ने नाचना, पटाखे जलाना और एक दूसरे पर गुलाल फेंकना शुरू कर दिया. भाविना के एक रिश्तेदार ने कहा, ‘‘जैसा कि आप देख सकते हैं भाविना के सिल्वर मेडल जीतने के बाद हम सुबह से ही गरबा खेल रहे हैं

 

हम उसके भव्य स्वागत की पूरी तैयारी कर रहे हैं.’’ उन्होंने कहा कि भाविना की उपलब्धि पर सब लोग बेहद खुश हैं उसकी जीत पर गौरवांवित महसूस कर रहे हैं. 

Rate this item
(0 votes)
Last modified on Sunday, 29 August 2021 12:48
शेयर करे...

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Magazine